जब कलेक्टर, कप्तान और अफ़सरों को खेत में धान रोपने में मज़ा आया

बाराबंकी की फ़तेहपुर तहसील में कलेक्टर, कप्तान, सीडीओ ने किसानों के साथ धान की रोपाई में आनंद महसूस किया

 

आज जीवन का एक अनूठा अनुभव हुआ, जिसकी कभी कल्पना नहीं की थी। आज मैंने धान की रोपाई की। वस्तुतः राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के अंतर्गत चल रही महिला किसान सशक्तिकरण परियोजना के ग्राम तुरकौली थाना मोहम्मदपुर खाला में गणेश स्वयं सहायता समूह की पहल पर श्री विधि से धान की रोपाई की गयी।

System of Rice Intensification (SRI) विधि का विकास मेडागास्कर से हुआ था और भारत में सबसे पहले वर्ष 2002-03 में गुजरात,आंध्र प्रदेश आदि राज्यों से इसकी शुरुआत हुई। इस विधि में पौधे से पौधे तथा लाइन से लाइन की दूरी 10 इंच रहती है और प्रत्येक पौध में लगभग 450 से 500 बीज आते हैं। परंपरागत धान रोपाई में जहां प्रति एकड़ लगभग 20 किग्रा बीज खर्च होता है, वहीं इस विधि से केवल 2 किग्रा बीज ही लगता है।

एक अनुमान के अनुसार इस विधि से लगभग डेढ़ से दो क्विंटल प्रति एकड़ पैदावार बढ़ जाती है। लोगों में जन जागरण के माध्यम से इस विधि को लोकप्रिय बनाने के प्रयास राष्ट्रीय स्तर पर किये जा रहे हैं। इसी क्रम में विधायक फतेहपुर श्री साकेन्द्र वर्मा की उपस्थिति में जिलाधिकारी बाराबंकी डॉ0 आदर्श सिंह एवं मुख्य विकास अधिकारी सुश्री मेधा रूपम के साथ मैंने भी उक्त विधि से धान की रोपाई की।

मैं टीशर्ट और शॉर्ट्स में था। लबालब पानी से भरे खेत में SRI विधि से धान रोपने के लिए रस्सी का उपयोग किया गया, जिसके हर 10 इंच पर एक लच्छा बंधा था, जिससे कि बीच की दूरी सुनिश्चित की जा सके।

एक बारगी जमीन से जुड़े किसान होने की अनुभूति हुई और देश के लाखों- करोड़ों किसानों के प्रति सम्मान का भाव जागृत हो उठा।
धन्य है हमारे देश का किसान….

अरविंद चतुर्वेदी,

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक, बाराबंकी 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles