सड़क चौड़ीकरण के विरोध में अयोध्या के व्यापारी करेंगे अनिश्चितकालीन बाजार बंद

बैठक को संबोधित करते हुए शक्ति जायसवाल ने कहा शासन-प्रशासन ने हम लोगों को दुकान के बदले दुकान या दुकान के पीछे दुकान देने का वादा किया था लेकिन बगैर स्थापित किए हम लोगों को उजाड़ रहा है। प्रशासन का अपने वादे से मुकरना हम व्यापारियों के लिये रोजी-रोटी पर संकट बन रहा है।

अयोध्या, 25 नवंबर: सड़क चौड़ीकरण के विरोध में अयोध्या के व्यापारी समाज ने राजद्वार हनुमानगढ़ी के पास अयोध्या में एक बैठक कर सर्वसम्मति से 29 नवंबर दिन सोमवार से अनिश्चितकालीन बाजार बंदी का निर्णय लिया है।

बैठक को संबोधित करते हुए शक्ति जायसवाल ने कहा शासन-प्रशासन ने हम लोगों को दुकान के बदले दुकान या दुकान के पीछे दुकान देने का वादा किया था लेकिन बगैर स्थापित किए हम लोगों को उजाड़ रहा है। प्रशासन का अपने वादे से मुकरना हम व्यापारियों के लिये रोजी-रोटी पर संकट बन रहा है।

प्रशासन से हम लोग मांग करते हैं कि पहले हम लोगों को स्थापित किया जाए, उसके बाद विस्थापित करने का कार्य किया जाय।

बैठक में अमित मोदनवाल ने कहा कि सुंदरीकरण के नाम पर हम लोगों को जबरदस्ती उजाड़ा जा रहा है, जबकि शासन प्रशासन के पास अन्य बहुत सारे विकल्प मौजूद हैं जिससे वह व्यापारियों को संतुष्ट कर सकते हैं।

श्रवण पांडे ने कहा बैठक में प्रशासन ने जो अल्टीमेटम दिया है 2 दिन में दुकान खाली करने के लिए यह तानाशाही रवैया है। हम व्यापारीगण इसकी निंदा करते हैं एवं शासन प्रशासन से मांग करते हैं कि अन्य विकल्पों को ध्यान में रखकर सुंदरीकरण और चौड़ीकरण किया जाए, जिससे हम व्यापारियों की रोजी रोटी बची रह सके। व्यापारी नेता रामचंद्र यादव ने कहा कि अनिश्चितकालीन बंदी ही हम लोगों के पास आखिरी विकल्प बचा है।

बैठक में प्रशासन ने जो अल्टीमेटम दिया है 2 दिन में दुकान खाली करने के लिए यह तानाशाही रवैया है। हम व्यापारीगण इसकी निंदा करते हैं एवं शासन प्रशासन से मांग करते हैं कि अन्य विकल्पों को ध्यान में रखकर सुंदरीकरण और चौड़ीकरण किया जाए, जिससे हम व्यापारियों की रोजी रोटी बची रह सके। व्यापारी नेता रामचंद्र यादव ने कहा कि अनिश्चितकालीन बंदी ही हम लोगों के पास आखिरी विकल्प बचा है।

यदि शासन प्रशासन 3 दिनों में हमारी बात पर सुनवाई नहीं करेगा तो हम समस्त व्यापारी गण मजबूर होकर एक साथ अनिश्चितकालीन बंद करने के लिए बाध्य हो जायेंगे, जिसकी सारी जिम्मेदारी शासन प्रशासन की होगी, जो हम लोगों की रोजी रोटी के पीछे हाथ मुंह धोकर पड़ेगा।

बैठक में रामनरेश जायसवाल ने कहा कि राम जन्मभूमि जाने के छह अन्य रास्ते हैं। इस रास्ते को चालू करके हजारों व्यापारियों को उजड़ने से बचाया जा सकता है, जिसका कहीं कोई भी विरोध है।

रामनारायण मौर्या जी ने कहा कि अफीम कोठी से ब्रह्म कुंड गुरुद्वारा होते हुए राजघाट तक सिक्स लेन बनाकर भीड़ को बांटा जा सकता है, जिससे व्यवस्था सुदृढ़ होने के साथ ही हजारों की रोजी रोटी भी बच जाएगी।

अनुपम मिश्रा ने कहा कि शहर में पार्किंग की उचित व्यवस्था जाम से निजात दिला सकती है। प्रशासन से मांग है कि जगह जगह पार्किंग की व्यवस्था कराई जाए जिससे जाम से निजात पाया जा सके और व्यापार सुचारू रूप से चल सके। राकेश यादव ने कहा शासन प्रशासन व्यापारियों की बात सुनकर उनको संतुष्ट करने के बाद ही योजना का कार्य किया जाए।

इसे भी पढ़ें:

मनीष गुप्ता हत्या कांड : हाथरस से गोरखपुर तक क्या बदला?

बैठक में प्रमुख रूप से नन्द कुमार गुप्ता “नन्दू” शक्ति जायसवाल, अमित मोदनवाल, शशांक मोदनवाल, रामचंद्र यादव, राम नारायण मौर्य, अनुपम मिश्रा, मनोज विनोद राव, रामनरेश जयसवाल, रवि गुप्ता, गोपाल, रामविलास पांडे, सोनू गुप्ता, लिपटी, रवि गुप्ता, मनोज गुप्ता, मणि शंकर सिंह, गौरव गुप्ता, विनीत गुप्ता, अजय गुप्ता, राजू साहू, रविंद्र गुप्ता, जितेंद्र गुप्ता, राकेश गुप्ता, कल्लू पटवा, महेश पटेल आदि लोग मौजूद रहे।

support media swaraj

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

sixteen − two =

Related Articles

Back to top button