ADR की प्रेस कान्फ्रेंस, UP में 396 में से 140 विधायकों पर आपराधिक मामले दर्ज

यूपी में 27 प्रतिशत विधायक अपराध से ताल्लुक रखते हैं। बीजेपी के 304 विधायकों में से 140 विधायक अपराधी हैं। समाजवादी पार्टी के 49 विधायकों में से 18 विधायक अपराधी हैं। बीएसपी के 18 विधायकों में से 2 विधायक अपराधी हैं। कांग्रेस में एक विधायक अपराधी है।

मीडिया स्वराज डेस्क

लखनऊ। यूपी में विधानसभा चुनाव से पहले इलेक्शन वॉच एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स (ADR) ने यूपी के 403 विधायकों में से 396 विधायकों पर सर्वे किया। सर्वे के नतीजे से यहां मौजूद राजनीतिक दलों के विधायकों को लेकर कई खुलासे हुये हैं। सर्वे के मुताबिक यूपी में सबसे अधिक दागी विधायक BJP के हैं। हालांकि सपा-बसपा के विधायक भी पीछे नहीं हैं।

खास यह है कि यूपी की जनता भले ही महंगाई का रोना रो रही हो, लेकिन यहां इससे राजनीतिक दलों के नेताओं और विधायकों को मुश्किल ही फर्क पड़ता दिखता है। अधिकतर राजनीतिक दलों के विधायक करोड़पति हैं। यहां अधिकतर विधायक ऐसे हैं, जो अपराध की दुनिया से जुड़े हुए हैं।

यूपी में 396 विधायकों में से 140 विधायकों पर आपराधिक मामले दर्ज हैं। यूपी में 27 प्रतिशत विधायक अपराध से ताल्लुक रखते हैं। बीजेपी के 304 विधायकों में से 140 विधायक अपराधी हैं। समाजवादी पार्टी के 49 विधायकों में से 18 विधायक अपराधी हैं। बीएसपी के 18 विधायकों में से 2 विधायक अपराधी हैं। कांग्रेस में एक विधायक अपराधी है।

यूपी में 396 विधायकों में से 313 विधायक करोड़पति हैं। बीजेपी में 304 विधायकों में से 235 करोड़पति हैं। समाजवादी पार्टी में 49 में से 42 विधायक करोड़पति हैं। बीएसपी के 16 विधायकों में से 15 विधायक करोड़पति है। कांग्रेस में 7 विधायको में से 5 विधायक करोड़पति है।

यूपी में सबसे ज्यादा अमीर विधायक बीएसपी में शाह आलम और गुड्डू जमाली हैं। दूसरे नम्बर पर बीएसपी विधायक विनय शंकर कुबेर के खजाने से सम्पर्क रखते हैं। बीजेपी के 2 विधायक वर्तमान में मंत्री हैं, दोनों कर्जदार हैं।
प्रयागराज के विधायक नन्दगोपाल नन्दी और सिद्धार्थनाथ सभी विधायकों में कर्जदार हैं।

यूपी में 396 विधायकों में से 95 विधायकों की शैक्षिक योग्यता 8वीं से 12वीं है। यूपी में 396 विधायकों में से 4 विधायकों की शैक्षिक योग्यता सिर्फ साक्षर है, 5 डिप्लोमा धारक हैं।

इसे भी पढ़ें:

कानपुर में भाजपा विधायक के बेटे का तथाकथित इंसाफ़
support media swaraj

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

five + 11 =

Related Articles

Back to top button