PM मोदी के प्रयागराज दौरे में लापरवाही बरतने पर सब-इंस्पेक्टर समेत 9 पुलिसकर्मी सस्पेंड

प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ किसी भी तरह की गलती बर्दाश्त करने के मूड में नहीं दिख रहे. इसका ताजा उदाहरण इन 9 पुलिसकर्मियों के सस्पेंशन आर्डर से लगाया जा सकता है. बता दें कि ये पुलिसकर्मी QRT टीम-6 में शामिल थे. सभी आठ कॉन्स्टेबल कौशाम्बी जिले के सराय अकिल थाने से आए थे. सब इंस्पेक्टर प्रयागराज के नवाबगंज थाने में तैनात थे.

यूपी में सब-इंस्पेक्टर समेत 9 पुलिसकर्मी सस्पेंड

उत्तर प्रदेश चुनावों के मद्देनजर प्रदेश में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी लगातार रैलियां कर रहे हैं. मंगलवार को पीएम का यूपी के प्रयागराज में कार्यक्रम था. इस दौरान ड्यूटी पर लापरवाही बरतने वाले पुलिसकर्मियों के खिलाफ सख्त एक्शन लिया गया है. एडीजी जोन के निर्देश पर 9 पुलिसकर्मियों को सस्पेंड किया गया है, जिनमें एक सब इंस्पेक्टर और 8 कॉन्स्टेबल शामिल हैं.

प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ किसी भी तरह की गलती बर्दाश्त करने के मूड में नहीं दिख रहे. इसका ताजा उदाहरण इन 9 पुलिसकर्मियों के सस्पेंशन आर्डर से लगाया जा सकता है. बता दें कि ये पुलिसकर्मी QRT टीम-6 में शामिल थे. सभी आठ कॉन्स्टेबल कौशाम्बी जिले के सराय अकिल थाने से आए थे. सब इंस्पेक्टर प्रयागराज के नवाबगंज थाने में तैनात थे.

बता दें कि पीएम नरेंद्र मोदी मंगलवार को यूपी के प्रयागराज पहुंचे थे, जहां उन्होंने 16 लाख महिलाओं को 1000 करोड़ रुपये की सौगात दी. प्रधानमंत्री ने अपने प्रतिद्वंद्वियों पर कटाक्ष करते हुए कहा था कि महिलाएं लड़कियों के लिए शादी की उम्र 21 साल करने के सरकार के फैसले से खुश हैं, लेकिन इससे कुछ लोगों को तकलीफ हो रही है.

प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत दिए गए 30 लाख मकानों में से 25 लाख उत्तर प्रदेश में महिलाओं के नाम पर रजिस्टर्ड हैं. यह महिलाओं के सच्चे सशक्तिकरण के लिए सरकार की प्रतिबद्धता को दर्शाता है.

मोदी ने कहा था, प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत दिए गए 30 लाख मकानों में से 25 लाख उत्तर प्रदेश में महिलाओं के नाम पर रजिस्टर्ड हैं. यह महिलाओं के सच्चे सशक्तिकरण के लिए सरकार की प्रतिबद्धता को दर्शाता है.

उन्होंने कहा था, लड़कियों को आगे पढ़ने और बढ़ने का अवसर मिले, इसलिए केंद्र ने उनके विवाह की आयु 18 से बढ़ाकर 21 साल करने का प्रयास किया. लेकिन किसको इससे तकलीफ हो रही है, यह सब देख रहे हैं.

समाजवादी पार्टी के सांसद शफीक उर रहमान और एसटी हसन ने विवाह की कानूनी उम्र बढ़ाने की केंद्र की पहल की आलोचना की थी. हालांकि सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने खुद को इन सांसदों के बयान से यह कहते हुए अलग किया था कि सपा एक प्रगतिशील पार्टी है और सांसदों के विचार व्यक्तिगत हैं.

इसे भी पढ़ें:

वर्दी में लुटेरा पुलिस गैंग गोरखपुर से गिरफ़्तार

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button