हिमयुग के बाद से हिमालय के ग्लेशियरों का 40 फीसदी हिस्सा हुआ गायब

पिछले कुछ दशकों में हिमालय के ग्लेशियर औसतन 10 गुना अधिक तेजी से पिघल रहे हैं

पिछले कुछ दशकों में हिमालय के ग्लेशियर औसतन 10 गुना अधिक तेजी से पिघल रहे हैं

पिछले 400 से 700 वर्षों में, हिमालयी क्षेत्र के अधिकांश हिस्सों में ग्लेशियरों का लगभग 40 फीसदी हिस्से का नुकसान हो गया है। यह 28,000 वर्ग किलोमीटर से सिकुड़कर लगभग 19,600 वर्ग किलोमीटर रहा गया है। ग्लेशियरों के तेज दर से पिघलने के ताजे जल संसाधनों और महत्वपूर्ण सामाजिक-आर्थिक प्रभाव पड़ सकते हैं।

संसद में इस बात की जानकारी देते हुए, पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय ने लीड्स विश्वविद्यालय के एक हालिया अध्ययन का हवाला देते हुए कहा कि पिछले कुछ दशकों में हिमालय के ग्लेशियरों ने पिछले बड़े ग्लेशियर के विस्तार के बाद से औसतन 10 गुना अधिक तेजी से बर्फ खो दी है।

अध्ययन में विश्वविद्यालय की शोध टीम ने 14,798 हिमालय के ग्लेशियरों के आकार और बर्फ की सतहों का पुनर्निर्माण किया था, क्योंकि वे हिमयुग या लिटिल आइस एज के दौरान थे, जो कि 400 से 700 साल पहले का समय था।

विज्ञान और प्रौद्योगिकी और पृथ्वी राज्य मंत्री डॉ जितेंद्र सिंह ने लोकसभा में बताया कि, पिघलने वाले ग्लेशियरों का हिमालयी नदियों के जल संसाधनों पर महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ता है। सिंह ने कहा ग्लेशियर बेसिन जल विज्ञान में परिवर्तन, नीचे की ओर तेजी से बहने वाले पानी, फ्लैश फ्लड और गाद की वजह से होने वाले बदलाव का जल विद्युत संयंत्रों पर बहुत बड़ा प्रभाव पड़ता है। उपरोक्त जानकारी डॉ जितेंद्र सिंह ने लोकसभा में सांसद दुष्यंत सिंह के एक प्रश्न के उत्तर में दी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

fourteen + 12 =

Related Articles

Back to top button