सात सौ साल से इस गाँव में नहीं बनी दूसरी मंजिल

आपने सात सौ साल से किसी गाँव में किसी खास अजीब रस्म के बारे में सुना है?

कई ऐसे गाँव हैं जिन्हे श्राप मिला है और वह इस श्राप का फल आज तक भुगत रहे हैं।

ऐसे ही एक गाँव के बारे में आज हम आपको बताने जा रहे हैं।

जी हाँ, एक ऐसा गाँव जिसके बारे में जानने के बाद आपके होश उड़ जाएंगे।

वैसे जिस गाँव के बारे में हम बात कर रहे हैं, वह सात सौ साल से श्राप का फल भोग रहा है।

राजस्थान के चुरू जिले में है यह गाँव

यह गाँव राजस्थान के चूरू जिले की सरदारशहर तहसील में है और इसका नाम है उड़सर गांव।

कहा जाता है इस गाँव में पिछले सात सौ साल से एक भी घर की दूसरी मंजिल नहीं बनी है।

इसकी वजह चौकाने वाली है और यह वजह जानने के बाद आपके होश उड़ सकते हैं।

जी! दरअसल इसकी वजह इस गाँव को मिला श्राप है।

यहाँ रहने वाले लोग सात सौ साल से श्राप का फल भोग रहे है।

श्राप की कहानी

इस गांव के लोग इस श्राप के बारे में कुछ इस तरह बताते हैं।

लोगों का कहना है कि सैकड़ों साल पहले गांव में भोमिया नाम का आदमी निवास करता था।

एक बार गांव में चोर आ गए जिनसे भोमिया लड़ने लगा। इसके बाद चोरो ने शख्स को इतना मारा कि उसकी हालत गंभीर हो गई।

बचते-बचाते वो अपने ससुराल पहुंचा औऱ मकान की दूसरी मंजिल पर छुप गया।

पीछे-पीछे चोर भी ससुराल पहुंच गए और घर के सदस्यों से मारपीट करने लगे।

चोरों ने काट दी गर्दन

जिसके बाद चोरो को पता चला कि वो घर में ही है। उसके बाद चोरो ने उसकी गर्दन काट दी।

लेकिन फिर भी वो चोरों से लड़ता रहा और अपने गांव आकर प्राण त्याग दिए।

कहते हैं उसके बाद उसकी पत्नी ने श्राप दिया कि ‘अगर कोई भी घर की दूसरी छत बनाएगा तो उसके साथ गलत होगा।’

उसी के बाद से इस गाँव में कोई घर में दूसरी मंजिल नहीं बनवाता।

Related Articles