सबसे पुराना प्रेमगीत

चार हजार साल पुरानी तख्ती पर पुजारिन ने लिखा है प्रेमगीत

पंकज प्रसून

थेली में आ जाने वाले मोबाइल फोन जितनी छोटी यह तख्ती सबसे पुराना प्रेमगीत का एक दुर्लभ इतिहास संजोये है।

कोई चार हजार साल पुरानी इस तख्ती में संसार का सबसे पुराना प्रेमगीत लिखा है, एक पुजारिन का अपने राजा के लिए…

और सुमेरियाई भाषा में कीलाक्षरों  से लिखे इस गीत को किसने लिखा, इसका कभी भी पता नहीं चलेगा पर उद्धाम काम से ओत-प्रोत यह कविता आज भी प्रासंगिक है।

इस्ताम्बूल के म्यूजियम में रखी है यह कविता

यह कविता सन् 1880 के दशक में इराक के नीपूर इलाके में खुदाई में यह मिली थी और इन दिनों इस्ताम्बुल के म्यूजियम ऑफ द  ऐंशेंट ओरिएंट  में प्रदर्शित है। https://upload.wikimedia.org/wikipedia/commons/c/cd/The_oldest_love_poem._Sumerian_terracotta_tablet_from_Nippur%2C_Iraq._Ur_III_period%2C_2037-2029_BCE._Ancient_Orient_Museum%2C_Istanbul.jpg

Doomujee alias Dummuj
दूमूजी यानी तम्मुज़

इस संग्रहालय की सेवानिवृत्त इतिहासकार मुआजीज़  हीलमीजी ज़ींग ने जब इसे पढ़ा तो दंग रह गयीं।

प्यार की देवी ने राजा के लिए लिखा है यह गीत

दरअसल, संसार का सबसे पुराना प्रेमगीत लिखने वाली यह पुजारिन और कोई नहीं, प्यार और संतानोत्पादन की देवी इनाना हैं और राजा शू-सिन वास्तव में  गड़ेरियों का देवता दूमूजी यानी तम्मुज़ है। इनाना को बेबीलोन, अक्कादी  और असीरिया में इश्तार नाम से पूजा जाता था।

Goddess of Love Inana
प्यार की देवी इनाना

सुमेरियाई समाज मुख्यत: कृषि प्रधान था जो फसल का उत्पादन बढ़ाने के लिए राजा और पुजारिन के बीच प्यार को सही मानता था। उन लोगों का मानना था कि ऐसा करने से फसल अच्छी होगी और समाज खुशहाल होगा।

सो जाओ मेरे घर में, सहर होने तक

(.पू. 4000 में लिखी गयी कविता, जिसे सुमेरिया के सम्राट शूसिन की शादी की सालगिरह पर देवी इनाना की पुजारिनें गाती  थीं।)

साजन 

मेरे दिल के प्यारे

कितने सुन्दर

शाद जैसे मीठे

मेरे शेर, दिल के प्यारे

जीत लिया है तुमने मेरा दिल

लो, अब मैं खड़ी हूँ  तुम्हारे  सामने

लरजती!

साजन

मैं तुम्हें चाहती हूँ चूमना

मेरा चुम्बन है अनमोल

शहद से भी ज्यादा मीठा

स्वाद भरा

शहद भरी सेज तक

हम अपनी मुहब्बत के मजे तो लें 

मेरे शेर, तुम्हारा चुम्बन तो ले लूँ !

मेरे मीठे

नहला दो मुझे शहद से

साजन,

आनन्द के बाद

कह दूँगी अपनी माँ से

तुम्हें परोसे मिठाइयाँ

कह दूँगी अपने पिता से

तुम्हें दे दें तोहफे…

जोश तुम्हारा

नहीं जानती क्या मैं

कैसे खुश करना है उसको?

साजन सो जाओ

मेरे घर में

सहर होने तक

मुझे पता है

तुम्हारे दिल को

रखना है कैसे गर्म ?

मेरे शेर

सो जाओ मेरे घर में

सहर होने तक…

क्योंकि तुम करते हो मुझको प्यार

मेरे शेर

यही इल्तज़ा है मेरी

दे दो बस अपना एक चुंबन

मेरे देवता, मेरे सरताज

मेरे दिलवर

सिर्फ मेरे शू-सिन

पवन देव के दिल को खुश करने वाले

बस दे दो एक चुंबन

तुम करते हो प्यार मुझे

यह जगह है मीठी

शहद की तरह

भर दो इसमें अपनी मिठास

जैसे आटा पैमाने में

निचोड़ दो अपनी मिठास

जैसे दबाते  हैं प्याले में सूखे आटे को

दबा दो

दबा दो अपनी मिठास को !!!

Pankaj
पंकज प्रसून

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles