शिक्षक दिवस पर राष्ट्रपति ने यूपी के तीन शिक्षकों को सराहा

देश के दूसरे राष्ट्रपति तथा प्रख्यात शिक्षक डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन के जन्मदिन यानी शिक्षक दिवस पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने देश के 47 चुनिंदा शिक्षकों को सम्मानित किया।

इनमें तीन शिक्षक उत्तर प्रदेश के भी हैं। इनके विशेष योगदान पर राष्ट्रपति ने इन सभी को बधाई देने के साथ आगे भी अच्छा काम करने के लिए शुभकामनाएं दीं।
शिक्षक दिवस के अवसर पर राष्ट्रपति  ने वर्चुअल समारोह में प्रदेश के तीन शिक्षकों को राष्ट्रपति भवन से ऑनलाइन अवॉर्ड प्रदान किया।

मानव संसाधन विकास मंत्रालय से जारी हुई नेशनल अवार्ड टीचर्स में प्रदेश के मुजफ्फरनगर से विकास कुमार, उन्नाव की स्नेहिल पाण्डेय तथा मैनपुरी के मोहम्मद इशरत अली के नाम पर मुहर लगी।

इनको आज राष्ट्रपति ने सम्मानित किया। इन्होंने न सिर्फ प्रदेश का नाम रोशन किया है बल्कि देश के बाकी शिक्षकों के सामने मिसाल भी पेश की है।
इस अवसर पर अपने संबोधन में राष्ट्रपति ने कहा कि आप सभी सम्मानित शिक्षक व शिक्षिकाओं को यह बेहद ही प्रतिष्ठित सम्मान प्राप्त करने के लिए बधाई तथा शुभकामना।

आप सभी को यह सम्मान देते हुए मुझे हार्दिक प्रसन्नता हो रही है।

सामान्य दिनों में तो आप सभी राष्ट्रपति भवन में आमंत्रित होते थे, लेकिन वैश्विक महामारी कोविड-19 के कारण इस बार यह संभव नही हैं।

यह प्रतिष्ठित पुरस्कार आप सभी की प्रतिबद्धता तथा अथक मेहनत का परिणाम है।

आप सभी ने शिक्षा के स्तर में अपनी गुणवत्ता को बढ़ाकर अपने-अपने विषयों को इतना रुचिकर बनाया कि बड़ी संख्या में विद्यार्थी इससे लाभांवित हुए।

कठिन समय में भी आप सभी ने मेहनत कर बच्चों को विश्वास को लगातार बढ़ाया।

राष्ट्रपति ने कहा कि मुझे सबसे अधिक प्रसन्नता इस बात की भी है कि आज सम्मानित होने वाले 47 शिक्षकों में 18 महिलाएं हैं।

यानी करीब 40 प्रतिशत में इन सभी ने अपनी जगह तय की है।

विकास कुमार – सनातन धर्म इंटर कॉलेज, मीरापुर,मुजफ्फरनगर

मुजफ्फरनगर के सनातन धर्म इंटर कॉलेज, मीरापुर के प्रधानाचार्य विकास कुमार को आज राष्ट्रीय शिक्षक पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

इस पुरस्कार के लिए इनका चयन विद्यालय में बच्चों  की संख्या बढ़ाने, अटल लैब की स्थापना समेत कई सकारात्मक कार्य देखते हुए किया गया।

उन्होंने अपने विद्यालय के अधिकांश बच्चों को कौशल विकास की शिक्षा में गति देने के साथ ऑनलाइन शिक्षा के लिए भी दक्ष बनाया है।

लॉकडाउन से पहले ही उन्होंने विज्ञान आधारित कई वीडियो बच्चों के लिए बनाए, जो इंटरनेट पर काफी पंसद किए गए।

इसके साथ अपने विद्यालय में अटल लैब की स्थापना कर जनपद में विद्यालय को अलग पहचान दी।

उन्होंने जल संरक्षण पर काम किया और लोगों को रक्तदान के लिए भी प्रेरित किया।

स्नेहिल पाण्डेय-प्रधान शिक्षक, उन्नाव

उन्नाव जिले की स्नेहिल पाण्डेय को आज राष्ट्रीय शिक्षक पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

यह उन्नाव के नवाबगंज ब्लॉक के अंग्रेजी माध्यम प्राथमिक स्कूल में प्रधान शिक्षक हैं।

स्नेहिल पाण्डेय ने गांव के स्कूल में अंग्रेजी विषय को अपनी शैली से काफी आसान तथा रूचिकर बनाया।

यहां के नवाबगंज गांव के बच्चे अब अंग्रेजी पढ़ने से भागते नहीं हैं।

उन्होंने शिक्षण को रुचिकर बनाने, छात्रों को स्वास्थ्य व सामाजिक गतिविधियों से जोड़ने और अंग्रेजी में पढ़ने तथा बोलने में निपुण बनाया।

इसके साथ ही जिले की हर गतिविधि में कई उपलब्धियों के लिए उनका चयन किया गया है।

प्रधान शिक्षिका स्नेहिल पाण्डेय ने बच्चों को नवाचार के माध्यम से पढ़ाने के साथ अपने स्कूल का वातावरण सुंदर करने के लिए कई प्रेरणादायी काम किया।

मोहम्मद इशरत अली – प्राथमिक विद्यालय रजवाना, मैनपुरी

मैनपुरी के शिक्षक मोहम्मद इशरत अली ने राष्ट्रीय स्तर पर जिले का नाम रोशन किया है।

उन्हेंं राष्ट्रीय अध्यापक पुरस्कार 2020 के लिए चुना गया। उन्हेंं यह पुरस्कार बेहतर शिक्षण कार्य के लिए मिला है।

मैनपुरी जिले के सुल्तानगंज विकास खंड के प्राथमिक विद्यालय रजवाना में कार्यरत प्रधानाध्यापक मोहम्मद इशरत अली बीते कई वर्ष से बच्चों को तकनीकी शिक्षा के साथ ही बच्चों को व्यवहारिक ज्ञान भी दे रहे हैं।

शिक्षक इशरत अली को इससे पहले शिक्षण कार्य के लिए प्रदेश सरकार की ओर से 2015 में उकृष्ट विद्यालय पुरस्कार प्रदेश सरकार की ओर से दिया गया था।

इसके बाद 2017, 2018 व 2019 में राज्य स्तरीय सूचना संप्रेषण तकनीकी कक्षा शिक्षण कार्य का राज्य स्तरीय पुरस्कार मिला।

Related Articles