जेईई और नीट परीक्षा , केंद्र छात्रों की जान जोखिम में डाल रहा है : ममता बनर्जी

जेईई और नीट परीक्षा के आयोजन को लेकर पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने एक बार फिर केंद्र को निशाने पर लिया है. उन्होंने कहा कि जेईई/एनईईटी परीक्षा आयोजित करने पर अड़े रहकर केंद्र छात्रों की जान जोखिम में डाल रहा है. केंद्र उपदेश देने में व्यस्त है, इसके बजाय उसे छात्रों के ‘मन की बात’ को सुनना चाहिए. सीएम ममता ने टीएमसी के स्टूडेंट विंग की एक वर्चुअल रैली में ये बात कही.
ममता बनर्जी ने कहा कि सात-आठ मुख्यमंत्रियों की मुलाकात हुई थी. हमने निर्णय लिया था कि छात्रों की ओर से हम सुप्रीम कोर्ट में समीक्षा के लिए (परीक्षा की तारीख) अपील दायर करेंगे. इसके अनुसार, 6 राज्यों के मंत्रियों ने याचिका पर हस्ताक्षर किए हैं. पश्चिम बंगाल की ओर से मंत्री मोलॉय घटक ने हस्ताक्षर किए हैं.

7- 8 CMs had met. We had taken a decision that on behalf of students we will file an appeal for review in the Supreme Court. In accordance, ministers of 6 states have signed the petition. Minister Moloy Ghatak has signed on behalf of West Bengal: CM Mamata Banerjee #NEETJEE pic.twitter.com/VEuWutP3LY
— ANI (@ANI) August 28, 2020

16 सितंबर को किसानों के मुद्दे पर टीएमसी का विरोध प्रदर्शन
इसके साथ ही उन्होंने कहा कि 16 सितंबर को तृणमूल कांग्रेस किसानों के साथ केंद्र की किसान विरोधी नीतियों के विरोध में खेतों में खड़ी होगी. सीएम ने कहा, “मैं भी कुछ गांवों में कार्यक्रम में शामिल होऊंगी.”
बता दें कि बुधवार को कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने गैर-बीजेपी शासित सात राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ वर्चुअल बैठक की थी. इसमें शामिल हुईं ममता बनर्जी से देश के सभी राज्यों से अपील की थी कि नीट और जेईई परीक्षा की तारीख को टलवाने के लिए सुप्रीम कोर्ट का रुख किया जाए.

Related Articles